केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने देशभर के शिक्षकों से संवाद के दौरान दिया 'आचार्य देवो भव:' का संदेश 

के० के० पांडे

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने गुरुवार को देशभर के शिक्षकों से संवाद के दौरान 'आचार्य देवो भव:' का संदेश दिया और लॉकडाउन के इस मुश्किल समय में देश सेवा करने और लोगों को जागरुक करने के लिए सभी का आभार व्यक्त किया। लॉकडाउन में स्कूल-कालेजों के बंद होने के बाद भी छात्रों को घर बैठे आनलाइन पढ़ाने में जुटे शिक्षकों की मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने जमकर तारीफ की है। साथ ही उन्हें भी डॉक्टर और पुलिस वालों की तरह कोरोना संकट काल में फ्रंट लाइन का कार्यकर्ता बताया। वहीं उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य में लगे शिक्षकों को राहत देते हुए उन्होंने आनलाइन क्लास और प्रतिदिन की रिपोर्टिग जैसे कार्यो से मुक्त रखने के निर्देश दिए। उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि बहुत जल्द राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट  - UGC NET) की परीक्षा तिथि की घोषणा कर दी जाएगी और दूसरे सवाल के जवाब में कहा कि नवोदय विद्यालय की भर्ती प्रक्रिया पूरी कर चुके शिक्षकों को लॉकडाउन के बाद नियुक्ति मिल जाएगी।

उन्होंने कहा, “देश इस समय अभूतपूर्व स्वास्थ्य आपातकाल से गुजर रहा है, यह समय सभी के लिए  मुश्किल भरा है, अभिभावकों की अपनी चिंताएं हैं, छात्रों की अपनी लेकिन शिक्षक वर्ग इसके अलावा कई और चिंताओं से रोज रूबरू होता है। एक शिक्षक की जिम्मेदारी और बड़ी हो जाती है क्योंकि वह एक साथ कई बच्चों का अभिभावक होता है और उसको सभी का ध्यान बिना किसी पक्षपात के रखना होता है, जिस जिम्मेदारी से देश भर के शिक्षकों ने अपनी अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन किया है वो सराहनीय है।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “ये शिक्षकों का ही प्रयास और विश्वास है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली को इतना सफल बना पाया, बहुत सारे शिक्षक तकनीकी में उतने निपुण नहीं थे लेकिन फिर भी उन्होंने छात्रों की खातिर प्रशिक्षण लिया और ऑनलाइन शिक्षा में अपना योगदान दिया। इस संकट काल ने इस बात को और पुख्ता किया है कि अगर देश का शिक्षक सशक्त और जिम्मेदार होगा तो वो देश हमेशा विकास के पथ पर चलेगा, इसलिए हमें यह संकल्प लेना चाहिए कि आज से हम'सशक्त शिक्षक, सशक्त देश'के  संदेश के साथ आगे बढ़ेंगे।”

उन्होंने शिक्षकों और छात्रों से आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने को कहा ताकि वे कोरोनावायरस से लड़ सकें। उन्होंने सभी को कोरोनावायरस से संबंधित स्थिति से भी अवगत रहने को कहा।

टीचर्स के साथ किया संवाद
दरअसल, मानव संसाधन विकास मंत्री (Human Resource Development Minister) रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal Nishank) सोशल मीडिया पर एक बार फिर लाइव आए थे। इस बार उनका संवाद देशभर के टीचर्स के साथ था, जिसे उन्होंने आचार्य देवो भव: का नाम दिया था। इस वेबिनार में निशंक ने अलग-अलग राज्यों के टीचर्स के सवालों के जवाब दिए और अध्यापकों से मिले सुझावों को भी ध्यान से सुना। एचआरडी मंत्री से वेबिनार के दौरान मध्‍य प्रदेश के एक शिक्षक संभव जैन ने पूछा कि स्‍कूल कब खुलेंगे और उन्‍हें किन नियमों का पालन करना होगा। इस सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह तो कहा नहीं जा सकता कि चीजें सामान्‍य कब होंगी, लेकिन जब भी स्‍कूल खुलेंगे तय दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा। इसके लिए एनसीईआरटी ने गाइडलाइन पर काम करना शुरू कर दिया है। उच्‍च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी (UGC) ने एक टास्‍क फोर्स का गठन किया है, जो कॉलेजों के लिए तौर-तरीकों पर काम कर रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि इन तरीकों के तय हो जाने के बाद ही कॉलेजों को खोला जाएगा।

निशंक ने बताया, कब आएंगे सीबीएसई बोर्ड एग्जाम के नतीजे

शिक्षा मंत्री (Education Minister) रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal Nishank) ने वेबिनार के दौरान एक टीचर के पूछे गए सवाल के जवाब में बताया कि सीबीएसई बोर्ड एग्जाम (CBSE Board Exam) की आंसरशीट के मूल्यांकन का काम 50 दिनों के अंदर पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने साथ ही कहा कि मूल्यांकन का काम खत्म होने के बाद जल्द से जल्द बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दिया जाएगा। एक अध्यापक ने उत्तर पुस्तिकाएं जांचने पर सवाल किया जिसके जवाब में मंत्री जी ने कहा, "जिन अध्यापकों के पास उत्तर पुस्तिकाएं मूल्यांकन के लिए जा रही हैं उनको ऑनलाइन शिक्षण और दैनिक रिपोर्ट नहीं भेजनी होगी।"

यह वेबसाइट  शांतिनिकेतन ट्रस्ट फॉर हिमालया द्वारा विकसित की है।

@ 2020 शांतिनिकेतन ट्रस्ट फॉर हिमालया सर्वाधिकार सुरक्षित।

  • Facebook - Black Circle
  • Twitter - Black Circle

Ramgarh (Uttarakhand), India